Posted by : सुशील कुमार Friday, October 5, 2012

(अपने भूले - बिसरे साथियों को याद करते हुए )

हमारी आँखों में तुम थे तुम्हारी आँखों में हम
हमसब की आँखों में ढेर-सारे सपने थे

सपनों के सफेद पंख थे
मन का खुला बितान था
और कुलांचे भर उड़ने की उसमें चुलबुली इच्छाएँ
सोचना सब कुछ इतना आसान था कि
कुछ भी करने को उद्धत हो जाते थे हम एक-दूसरे की खातिर

जेबें खाली थीं अपनी पर हृदय संतोष से भरा था
फटेहाली कम न थी फिर भी मस्तमौला थे बावरे थे
और कई उलझनों के बावजूद लगभग निश्चिंत-से रहते थे

आज न तुम हो मेरे सामने , न हमारे वे सपने
लानतों से भरे सामान हैं, जेबें भरी-पूरी हैं अपनी
पर न रंग है कोई न जज्बा
न वह उमंग न उड़ान

अपने-अपने हिस्से का आकाश ढोते हुए
अपनी-अपनी दुनिया में कैद
एक ही मुहल्ले एक ही गली में
हम एक-दूसरे की पीठ बन गए हैं

सोचता हूँ आदमी बनने के गणित में
अपने जीवन का भूगोल कितना बदल लिया हमने |

{ 15 comments... कृपया उन्हें पढें या टिप्पणी देंcomment }

  1. अपने-अपने हिस्से का आकाश ढोते हुए
    अपनी-अपनी दुनिया में कैद
    एक ही मुहल्ले एक ही गली में
    हम एक-दूसरे की पीठ बन गए हैं

    सोचता हूँ आदमी बनने के गणित में
    अपने जीवन का भूगोल कितना बदल लिया हमने |

    सच कहा

    ReplyDelete
  2. भाई सुशील जी, आपकी कोई कविता बहुत दिनों बाद मैं पढ़ पाया। यह कविता अपनी सहजता में असाधारण है। बधाई !

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर रचना!
    ईश्वर इन आँखों को सलामत रखे!

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार (07-10-2012) के चर्चा मंच पर भी की गई है!
    सूचनार्थ!

    ReplyDelete
  5. बहुत उम्दा रचना!!

    ReplyDelete
  6. सोचता हूँ आदमी बनने के गणित में
    अपने जीवन का भूगोल कितना बदल लिया हमने |

    बेहतरीन प्रस्तुति.

    ReplyDelete
  7. बहुत ही सुंदर रचना |
    नई पोस्ट:- वो औरत

    ReplyDelete
  8. सपनों के सफेद पंख थे
    मन का खुला बितान था
    और कुलांचे भर उड़ने की उसमें चुलबुली इच्छाएँ
    सोचना सब कुछ इतना आसान था कि
    कुछ भी करने को उद्धत हो जाते थे हम एक-दूसरे की खातिर....उन पंखों के साथ मन का खुला बितान आज भी चाह में है

    ReplyDelete
  9. एक अहसास जगाने में सक्षम है आपकी कविता। सचमुच में शब्द सक्रिय है जो अम आदमी की जेबें भी देख लेते हैं और सपने भी देख लेते हैं। बधाई। किशोर कुमार जैन गुवाहाटी असम

    ReplyDelete
  10. बेहतरीन भावाभिव्यक्ति..
    :-)

    ReplyDelete
  11. धन्यवाद आप सबों का |

    ReplyDelete
  12. http://vyakhyaa.blogspot.in/2012/10/blog-post_9.html

    ReplyDelete
  13. सोचता हूँ आदमी बनने के गणित में
    अपने जीवन का भूगोल कितना बदल लिया हमने |
    सच कहा |
    बहुत अच्छी लगी आपकी यह कविता !
    सादर
    इला

    ReplyDelete
  14. aadarneeya susheel sir
    namaskar
    aapkee rachanaaein hamesha padhatee hun.behad sahaj par bahut bhaavpurna hote hain.
    shukriya

    ReplyDelete

संपर्क फॉर्म ( ईमेल )

नाम*

ईमेल आई डी*

संदेश*

समग्र - साहित्य

ताजा टिप्पणियाँ

विधाएँ

संचिका

सुशील कुमार . Powered by Blogger.

- Copyright © स्पर्श | Expressions -- सुशील कुमार,हंस निवास, कालीमंडा, दुमका, - झारखंड, भारत -814101 और ईमेल - sk.dumka@gmail.com -