Posted by : सुशील कुमार Sunday, August 25, 2013

धीरे - धीरे
दरक जाएंगी  सम्बन्धों की दीवारें
प्यार रिश्ते और फूल बिखर जाएँगे
न धरती  बचेगी न धात्री
कोशिका की  देह में टूटने की आवाज
सुनो जरा गौर से

हताशा में नहीं लिखी गई यह कविता
मृत्यु में जीवन का बीज सुबक रहा अंखुआने  को
अंतर्नाद में प्रलय-वीणा झंकृत हो रही
फिर से सृजन का भास्वर लेकर

धीरे - धीरे
सब कुछ बिहर जाएगा मेरे भाई
फिर भी बचे रहेंगे देह - गंध, स्वाद और जीवन - संगीत का आखिरी लय
तुम्हारे शेष रहने तक |



{ 7 comments... कृपया उन्हें पढें या टिप्पणी देंcomment }

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    साझा करने के लिए धन्यवाद।

    ReplyDelete


  2. धीरे - धीरे
    सब कुछ बिहर जाएगा मेरे भाई
    फिर भी बचे रहेंगे देह - गंध, स्वाद और जीवन - संगीत का आखिरी लय
    तुम्हारी शेष रहने तक

    तुम्हारी ... शेष रहने तक , क्या ?
    शायद स्मृति !
    :)

    सुंदर संश्लिष्ट रचना के लिए साधुवाद
    आदरणीय सुशील कुमार जी !


    मंगलकामनाओं सहित...
    -राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि का लिंक आज सोमवार (26-08-2013) को सुनो गुज़ारिश बाँकेबिहारी :चर्चामंच 1349में "मयंक का कोना" पर भी है!
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  4. bahut hi gahre bhaw hai .......ati sundar ....

    ReplyDelete
  5. नि:संदेह एक अच्छी कविता !

    ReplyDelete
  6. धीरे - धीरे
    सब कुछ बिहर जाएगा मेरे भाई
    फिर भी बचे रहेंगे देह - गंध, स्वाद और जीवन - संगीत का आखिरी लय
    तुम्हारी शेष रहने तक
    तुम्हारी ... शेष रहने तक , क्या ?
    शायद स्मृति !
    a['


































































    धीरे - धीरे
    सब कुछ बिहर जाएगा मेरे भाई
    फिर भी बचे रहेंगे देह - गंध, स्वाद और जीवन - संगीत का आखिरी लय
    तुम्हारी शेष रहने तक
    तुम्हारी ... शेष रहने तक , क्या ?
    शायद स्मृति !
    ati sundar




    ReplyDelete
  7. शेष - जो दिखाई देता है,पर कुछ भी शेष नहीं होता

    ReplyDelete

संपर्क फॉर्म ( ईमेल )

नाम*

ईमेल आई डी*

संदेश*

समग्र - साहित्य

ताजा टिप्पणियाँ

विधाएँ

संचिका

सुशील कुमार . Powered by Blogger.

- Copyright © स्पर्श | Expressions -- सुशील कुमार,हंस निवास, कालीमंडा, दुमका, - झारखंड, भारत -814101 और ईमेल - sk.dumka@gmail.com -