Posted by : सुशील कुमार Tuesday, September 24, 2013

साभार : गूगल 
लौट आ ओ समय - धार 
पगली बसंती बयार -
देह से घूमते - लिपटते धूल-कण
गोधूलि की बेला -
लौटते मवेशियों के खुरों से मटमैली होती 
डूबती साँझ
उसमें बहते बजते लोक-शब्द
सब लौट आ
लौट आ ओ समय - धार 

हाथ की बनी गाँठ
अब दाँत से भी नहीं खुलती
राह में इतनी दीवारें कि
घर का पता सब भूल गए 
लौट आ ओ समय - धार 

कोस भर नदी ने  
अपने रस्ते बदल लिए
पगडंडियाँ सब बिला गईं  
दोस्त- यार अपने गाँव छोड़
धीरे – धीरे जाने कहाँ – कहाँ चले गए
साथ की लड़कियाँ काम-धाम की खोज में
बहुत दूर-दूर चली गईं
न गीत न धुन न थाप न पदचाप
न चौपाल न जामुन-पीपल-महुआ-पलाश के पेड़

दादी के स्वर्गवास के बाद लोरी
नहीँ सुनाई देती

आया हूँ बरसों बाद अपना गाँव
पर ढूँढ नहीं पा रहा अपना वह गाँव
बहुत बदला-बदला सा है अपना गाँव
ईंट-कंक्रीट से बन रहे अपने गाँव में
बहुत बदले-बदले से दिख रहे अब लोग,
-      -  थमे हुए स्वर, गीत-संगीत, रीति-रिवाज

कहाँ है इस गाँव में मेरा गाँव ?
यहीं कहीं था मेरा गाँव 
यह तो रुका हुआ ठाँव है
नहीँ बह रहा मेरा गाँव
हे भगवन,
मेरा गाँव अब तरल नहीँ रहा
वह तो नि: शब्द, मौन और ठोस हो गया है !
लौट आ ओ समय - धार |

{ 4 comments... कृपया उन्हें पढें या टिप्पणी देंcomment }

  1. न समय लौटकर आयगा न वह परिवेश ,हाँ यादें बार बार दस्तक देती रहेगी --- बहुत सुन्दर रचना
    Latest post हे निराकार!
    latest post कानून और दंड

    ReplyDelete
  2. वे दिन केवल यादों में ही रह गए हैं...बहुत भावपूर्ण रचना..

    ReplyDelete

संपर्क फॉर्म ( ईमेल )

नाम*

ईमेल आई डी*

संदेश*

समग्र - साहित्य

ताजा टिप्पणियाँ

विधाएँ

संचिका

सुशील कुमार . Powered by Blogger.

- Copyright © स्पर्श | Expressions -- सुशील कुमार,हंस निवास, कालीमंडा, दुमका, - झारखंड, भारत -814101 और ईमेल - sk.dumka@gmail.com -