Posted by : सुशील कुमार Friday, August 3, 2012


योग-मुद्रा 
जी उठा हूँ फिर से उर्जस्वित होकर
साँस की प्राण-वायु अपनी रग-रग में भरकर
स्वयं का संधान कर स्वयं में अंतर्लीन होकर 

यह प्रयाण जरूरी था मेरे लिये –
न कोई रंग न कोई हब-गब
जीवन सादा पर सक्रिय है यहाँ
दैनिक क्रियाएँ सरल हैं
स्वर जैसे थम गया हो
हृदय-वीणा के तार जैसे यकायक 
तनावमुक्त हो झनझनाकर स्थिर हुए हों  

पर सकल आलाप अब शांत है
नीरवता में इस दिनांत की साँझ-वेला में
कोई थिर स्वर उतर रहा है काया के नि:शब्द प्रेम-कुटीर में 
अंतर्तम विकसित हो रहा है चित्त स्पंदित हो रहा है
धवल उज्ज्वल आलोक-सा छा रहा है घट के अंदर
कोई सिरज रहा है मुझे फिर से      
सचमुच मैं जाग रहा हूँ धीरे-धीरे नवजीवन के विहान में

वहाँ जिनसे मुझे प्रेम मिला था
वह मुझे अपने पास बाँधकर रखना चाहते थे
पर अब अनुभव हो रहा है मुझे - 
जड़ता से बचने के लिए, निजता को बचाने के लिये
उनकी दुनिया से अपनी दुनिया मेँ वापस लौटने का मेरा निर्णय सही था |

{ 10 comments... कृपया उन्हें पढें या टिप्पणी देंcomment }

  1. "जड़ता से बचने के लिए, निजता को बचाने के लिये
    उनकी दुनिया से अपनी दुनिया मेँ वापस लौटने का मेरा निर्णय सही था|"
    बेहतरीन पंक्तियाँ...

    ReplyDelete
  2. प्रभावित करती अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  3. जुदा होता आप से जब-
    आप मन दीपक जलाता.
    आप से ऊर्जा मिले तो
    आप तम हर जगमगाता.
    आप से जब आप मिलता
    आप तब हो पूर्ण जाता.

    ReplyDelete
  4. AAPKEE LEKHNI SE EK AUR BADHIYA KAVITA .

    ReplyDelete
  5. बहुत प्रभावी, उत्कृष्ट रचना.
    बधाई.
    -'सुधि'

    ReplyDelete
  6. very nice
    last two lines r very impressive.

    ReplyDelete
  7. आपके ब्लॉग पर लगा हमारीवाणी क्लिक कोड ठीक नहीं है और इसके कारण हमारीवाणी लोगो पर क्लिक करने से आपकी पोस्ट हमारीवाणी पर प्रकाशित नहीं हो पाएगी. कृपया लोगिन करके सही कोड प्राप्त करें और इस कोड की जगह लगा लें. क्लिक कोड पर अधिक जानकारी के लिए निम्नलिखित लिंक पर क्लिक करें.

    http://www.hamarivani.com/news_details.php?news=41

    टीम हमारीवाणी

    ReplyDelete
  8. वहाँ जिनसे मुझे प्रेम मिला था
    वह मुझे अपने पास बाँधकर रखना चाहते थे
    पर अब अनुभव हो रहा है मुझे -
    जड़ता से बचने के लिए, निजता को बचाने के लिये
    उनकी दुनिया से अपनी दुनिया मेँ वापस लौटने का मेरा निर्णय सही था |

    बहुत ही गहन और सटीक है ये बात ......अति सुन्दर ।

    ReplyDelete

संपर्क फॉर्म ( ईमेल )

नाम*

ईमेल आई डी*

संदेश*

समग्र - साहित्य

ताजा टिप्पणियाँ

विधाएँ

संचिका

सुशील कुमार . Powered by Blogger.

- Copyright © स्पर्श | Expressions -- सुशील कुमार,हंस निवास, कालीमंडा, दुमका, - झारखंड, भारत -814101 और ईमेल - sk.dumka@gmail.com -